योगी के आदेश पर अपना बन खाकी कर रही शवों का अंतिम संस्कार,रात में मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर दिला रही पुलिस


Dhananjay Singh | 04 May 2021 | 20

लखनऊ।इस कोरोना की भीषण महामारी में ऐसा हालात बन गया है कि मुसीबत के समय में न तो पड़ोसी काम आ रहा है और न ही रिश्तेदार।अपने खुद मुंह मोड़ कर पीठ दिखा रहे है और दूरियां बना रहे हैं। ऐसे हालात में प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ऐसे लोंगों के साथ अपना बनकर खड़े है।सीएम योगी के निर्देश पर उत्तर पुलिस आगे आकर लोगों की जी जान से मदद कर रही है। यूपी पुलिस आधी रात में मरीजों तक ऑक्सीजन सिलेंडर तक पहुंचा रही है तो कभी कही अपना परिवार बनकर लोगों के साथ खड़ी हो रही है।गोरखपुर, बिजनौर, नोएडा, मुरादाबाद, जौनपुर, लखनऊ, बदायूं, बागपत, सोनभद्र जैसे कई तमाम जिले हैं जहां उत्तर प्रदेश पुलिस बेसहारा लोगों का सहारा बनकर अंतिम संस्कार करवा रही है। *1-* बागपत जिले के बड़ौत क्षेत्र में 94 वर्षीय किशन प्रकाश अग्रवाल अपने घर में आइसोलेट है।किशन को अचानक ऑक्सीजन की जरुरत पड़ी। परिजन ऑक्सीजन गैस लेने सोनभद्र से सिंगरौली के लिए गाड़ी लेकर निकले लेकिन अचानक लोढ़ी स्थित कोविड अस्पताल के चिकित्सकों से उनका संपर्क टूट गया, जबकि उनके पास कुछ ही घंटे का ऑक्सीजन बैकअप बचा था। सूचना मिलते ही जिलाधिकारी अभिषेक सिंह और पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने हालत को गंभीरता से समझते हुए प्रभारी निरीक्षक शक्तिनगर को वाहन और चालक को तलाशने के लिए निर्देशित किया। स्थानीय पुलिस ने रात में करीब पौने दो बजे न सिर्फ वाहन और चालक को खोज निकाला बल्कि सिंगरौली स्थित आपूर्तिकर्ता से ऑक्सीजन सिलेंडर लोड करवा कर अस्पताल तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। *2-* सिद्धार्थनगर जिले के डुमरियांगज में चंद्र शेखर बीते कई दिनों से बीमार चल रहे थे। ऐसे में बीती 30 अप्रैल को उनकी हालत अचानक बिगड़ गई जिसके बाद उनकी मौत हो गई। कोरोना के डर से गांव का कोई भी व्यक्ति शव का दाह संस्कार और कंधा देने को तैयार नहीं था। ऐसे में सोशल मीडिया के माध्यम से जब इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय को मिली तो तुरंत सीएम योगी के आदेश पर एसपी सिद्धार्थनगर मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर तत्काल शव का धार्मिक रीति रिवाज से समस्त धार्मिक प्रक्रिया को पूरा करते हुए शव को कंधा दिया और शव का अंतिम संस्कार कराया। *3-* बदायूं में 28 अप्रैल को देर रात एक युवक ने कोतवाली प्रभारी निरीक्षण को फोन किया कि उसके पिता जी की तबीयत बहुत खराब है। अगर उन्हें रात में ही ऑक्सीजन नहीं मिली तो उनकी हालत बहुत बिगड़ सकती है। जिसके बाद तत्काल प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ने रात में ही ऑक्सीजन का इंतजाम किया और ऑक्सीजन सिलेंडर उनके लड़के को रात में ही उपलब्ध कराया। *4-* बिजनौर में कई दिनों से बीमार चल रही एक बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। उनके बेटे विकास ने पड़ोसियों व रिश्तेदारों से अपनी मां के अंतिम संस्कार के लिए गुहार लगाई, लेकिन कोरोना के डर से कोई भी उसके सहयोग के लिए आगे नहीं आया। विकास ने जब इसकी सूचना बिजनौर पुलिस को दी तो थाना धामपुर के प्रभारी निरीक्षक अरुण त्यागी ने अपनी टीम के साथ मिलकर विकास की मां के शव को घर से शमशान घाट तक ले जाकर विधि विधान से अन्तिम संस्कार कराया। *5-* बीती 28 अप्रैल को मुरादाबाद में इलाज के दौरान एक युवक की मौत हो जाती है।लेकिन उसे शव को कंधा देने के लिए कोई भी व्यक्ति आगे आने को तैयार नहीं हुआ। ऐसे में घटनास्थल पर मौजूद एक सिपाही ने आगे बढ़ कर अर्थी को कंधा देकर व्यक्ति का अंतिम संस्कार कराया। *6-* नोएडा के सेक्टर 20 में 52 वर्षीय व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई। जिसके बाद उसका शव घंटों घर में ऐसा ही पड़ा रहा, आस पास रहने वालों ने भी शव को छूने से मना कर दिया।वहीं मृतक की बेटी और मां के पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वह अंतिम संस्कार करा सकें। इसकी सूचना जैसे ही सेक्टर 19 के कार्यवाहक चौकी प्रभारी को मिली तो उन्होंने मौके पर पहुंच कर शव को न सिर्फ कंधा दिया बल्कि अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों की व्यवस्था कर बेटी से मुखाग्नि दिलवाई। जाहिर है इस कोरोना के भीषण महामारी में उत्तर प्रदेश पुलिस मानवता की मिशाल कायम कर अपना धर्म निभा रही है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का साफ निर्देश हैं कि जिन लोगों की मदद के लिए उनके अपनों ने मुंह मोड़ लिए है, उनकी मदद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार है। यूपी पुलिस पूरे प्रदेश में इंसानियत की मिसाल पेश कर रही है।



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry

© Copyright 2019 | Pratapgarh Express. All rights reserved