बढ़ाएं कोरोना टेस्टिंग अप्रैल व मई में प्रभावी व्यवस्थाएं लागू करे:सीएम योगी


Dhananjay Singh | 09 Apr 2021 | 597

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपने वाराणसी एक दिवसीय दौरे के दौरान बीएचयू के केंद्रीय कक्ष सभागार में कोविड-19 से बचाव व चिकित्सा व्यवस्थाओं की विस्तार से समीक्षा की। सीएम ने कहा कि दूसरे चरण में तीव्रता अधिक है, इसके लिए मानसिक रूप से तैयार हो जाइए। मेडिकल फैसिलिटी तीव्रता से बढ़ाएं। गत अप्रैल एवं मई, 2020 की व्यवस्थाएं व सुविधाएं बहाल करें। जनरल ओपीडी को कंट्रोल करें। उसमें सीमित मरीज बुलाए। क्योंकि एक भी संक्रमित ओपीडी में पहुंचा, तो ज्यादा परेशानी बढ़ा सकता है। टेली कंसल्टेंसी सुविधा शुरू करें। सीएम ने कहा कि डॉक्टर निश्चित समय पर बैठे, फोन से व्यक्ति को मर्ज के बारे में दवा बताएं। घर बैठे लोगों को चिकित्सकीय सुविधा टेली कंसलटेंसी से उपलब्ध हो। गत वर्ष प्राइवेट हॉस्पिटल जो कोविड में बदले थे उन्हें पुनः सक्रिय किया जाए। प्राइवेट हॉस्पिटल के आरटी पीसीआर टेस्ट, एंटीजन टेस्ट व कोविड चिकित्सा के रेट तय करें। ताकि मरीज के साथ कोई मनमानी न होने पाए।सीएम ने यह भी आगाह किया कि कोविड टेस्ट करने वाली पैथोलॉजी द्वारा फेक रिपोर्ट पाई जाने पर संस्थान सील कर कार्यवाही होगी और उन्हें ब्लैक लिस्ट भी किया जाएगा। ऐसी विषम परिस्थितियों में मानवता दिखाने का अवसर है। यदि कोई मनमानी करता है, मरीजों का दोहन करता है तो उस पर कार्रवाई होगी। सीएम ने कहा कि इस समय कोरोना तीव्रता से बढ़ रहा है। इसमें स्वयं स्वास्थ्य कर्मी, कोरोना वैरीयर्स, पुलिस, प्रशासन अपने को भी बचाएं। कांट्रैक्ट ट्रेसिंग बढ़ाएं और सभी की टेस्टिंग हो। व्यवस्था होने पर व्यक्ति होम आइसोलेशन में रहे अन्यथा अस्पताल में भर्ती हो। एल-3 व एल-2 के पर्याप्त 1000 से अधिक बेड हैं, इन्हें और बढ़ाया जाए।



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry

© Copyright 2019 | Pratapgarh Express. All rights reserved