पतंग का धंधा कोरोना काल में मंदा है,चाइनीज मांझे की जगह बरेली के मांझे की हो रही बिक्री


Source PBH | 13 Jan 2021 | 179

रिपोर्ट-प्रेम शंकर मिश्रा 

वाराणसी। कोरोना काल के बाद पड़े मकर संक्रांति त्यौहार पर नभ में पतंग का संसार सा वाराणसी के आसमान पर नज़र आता है, पर इस वर्ष कोरोना काल में पतंग के धंधे पर मंदी नज़र आ रही है। आकाश से पतंग गायब है और दुकानों से खरीदार।शहर के चौक, औरंगाबाद आदि प्रमुख पतंग बाज़ारों में ग्राहकों की आवाजाही नाम मात्र की है। दुकानदारों की माने तो इस वर्ष बहुत कम डिमांड मिली है।इसके अलावा प्रतिबंधित चाइनीज़ मांझे की जगह एक बार फिर लोग झुमका गिरा रे बरेली के बाजार मे मतलब बरेली के मंझे को तरजीह दे रहे हैं। चाइनीज कातिल मांझा दुकानों से गायब है।औरंगाबाद के दुकानदार राकेश गुप्ता ने बताया कि पतंग के सीज़न में हमारे पास इतना समय नहीं होता था कि हम किसी से बात कर पाए लेकिन कोरोना काल और लॉकडाउन के कारण से लोगों की कमर टूट गयी है। लोग दुकानों पर कम से कम माल खरीदने के लिए आ रहे हैं। मांझे में लोग चाइनीज़ की जगह एक बार फिर बरेली का मांझा ले जा रहे हैं।



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry

© Copyright 2019 | Pratapgarh Express. All rights reserved