चीन की सीमा में घुसकर अमेरिका की चेतावनी,गरजे बम वर्षक विमान


Dhananjay Singh | 19 Nov 2020 | 777

वाशिंगटन।दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण को लेकर भले ही सियासी संकट चल रहा हो, लेकिन चीन को लेकर उसकी नीति साफ है। फ्लाइट मॉनीटर एयरक्राफ्ट स्पॉट्स के मुताबिक अमेरिका ने हाल ही में चीन के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र में दो लंबी-रेंज वाले बम वर्षक विमान भेजे थे।अमेरिका का यह कदम एक तरह से चीन को खुली चेतावनी है कि यदि वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आया, तो यूएस एयरफोर्स उसे घर में घुसकर मारने का दम रखता है।अमेरिक के विमान ऐसे वक्त चीन की हवाई सीमा में दखल दिए जब ड्रैगन एक बड़ा नौसेना अभ्यास कर रहा है। फ्लाइट मॉनीटर एयरक्राफ्ट स्पॉट्स ने मंगलवार सुबह बताया कि दो यूएसए F B-1 बम वर्षक विमानों ने चीन के ADIZ में प्रवेश किया और कुछ देर बाद वापस लौट आये। बता दें कि B1-B में किसी भी बम वर्षक की तुलना में सबसे बड़ा पेलोड है और अमेरिकी सेना पहले भी इसका इस्तेमाल करती रही है।इस तरह के भारी विमानों को जासूसी मिशन पर तैनात नहीं किया जाता है, लिहाजा माना जा रहा है कि अमेरिका ने चीन को चेतावनी भेजने के लिए यह कदम उठाया है। एयरक्राफ्ट स्पॉट्स के ट्वीट में बताया गया है कि यूएस विमानों की आखिरी लोकेशन पूर्वी चीन सागर में चीन के हवाई क्षेत्र में थी। अमेरिका पूर्वी एशिया में शांति और संतुलन बनाये रखने के मिशन पर है और उसने चीन की सीमा में विमान भेजकर एक बार फिर यह साफ कर दिया है कि आंतिरक सियासी संकट से उसकी नीति प्रभावित नहीं हुई है। हालांकि, डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव हारने के बाद ऐसा माना जा रहा है कि जो बाइडेन का रुख चीन के प्रति कुछ नरम हो सकता है।वैसा इसका पता तो उनके सत्ता संभालने के बाद ही लगेगा।



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry

© Copyright 2019 | Pratapgarh Express. All rights reserved